Newsreach Viral
National

बदले की भावना से की गयी कार्रवाई को न्याय नहीं कहा जा सकता : मुख्य न्यायाधीश

बदले की भावना से की गयी कार्रवाई को न्याय नहीं कहा जा सकता : मुख्य न्यायाधीश 38

नई दिल्ली। देश के मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे ने साफ – साफ कहा है कि न्याय की मतलब बदला नहीं है। साथ देश के मुख्य न्यायाधीश ने हैदराबाद एनकाउंटर की आलोचना की। मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे ने जोधपुर में कहा, ‘देश में घट रही घटनाओं ने नए जोश के साथ पुरानी बहस छेड़ दी है।

मुख्य न्यायाधीश ने कहा कि इसमें कोई शक नहीं है कि आपराधिक न्याय प्रणाली पर पुनर्विचार करने की जरूरत है।’ उन्‍होंने कहा, ‘न्‍याय कभी बदले के रूप में नहीं किया जा सकता है। मुझे लगता है कि यदि बदला लेने की बात हुई तो न्‍याय की परिभाषा खो जाएगी।’

इस बीच उत्तर प्रदेश के उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता के आवास पर जाकर स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि पीड़ित के परिवार की जो भी जांच चाहेगी हम वो जांच कराएंगे। पीड़िता ने जो नाम लिए हैं, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा। यह राजनीति का विषय नहीं है।

सांसद साक्षी महाराज ने कहा कि मैं अपनी पार्टी के साथ पीड़ित परिवार के समर्थन में हूं। मैं संसद में भी इसके बारे में मुखर रहा हूं। अपराधियों को गिरफ्तार किया जाएगा। किसी को बख्शा नहीं जाएगा। उन्नाव के नाम को बदनाम करने की कोशिश की गई है।

સંબંધિત સમાચાર

एक टिप्पणी द्या